management -1 - yodi dong

management -1

Smiling Woman Carrying Smiling Child Behind Tree Trunk


हमारे घर है हावड़ा   जिलाके इस गाओं में। .पंचायत एरिया है ये जगा। आज भी रात को सिएर निकल ते है। सुबह जब ऑफिस जाते हु ग्यारा कुत्ता सोये रहते है रस्ते की बगल में। बिस्वास हुआ नहीं? तो कभी भी आजाओ मेरे गांव  में ,दिखा दूंगा आप को। रात के बारा  बजे से सुरु होते है ,चौकीदार की  चिकना --जागते रहो.....
 एहि से बना डॉक्टर,इंजीनियर और प्रोफेसर भी।मे होटेलिएर बना एहि से। लेकिन मेरे बीवी कहते है ,आप फॉरेन नहीं गए  तो होटेलिएर क्या ?होटेलिएर है रजत भैया ,यू, के .में सेट है पिछले बिस साल। गाड़ी ,मकान बना दिए आपने माँ के लिए ,और तुम अपना माँ को सेकंड हैंड गाड़ी से घूमा ते हो। तीन महीना पहले  स्वास  की प्रॉब्लम हुआ -तो, टोटो में नरसिंघ होम ले गए थे हम ,इयाद है ?

क्या बोलू भाई ,ये सब सही बोल रहा  है वह। लेकिन सब  माँ  की तरह ,मेरे माँ  भी  बुद्धू है। सोचती हे उसकी बेटे की कमाई कम  है, बेचारा कहा से नए गाड़ी लाएगा?में इतने नालायक हु ,आपने माँ को मैंने चोरी सिखाए थे,मेरे जेब खर्चे के लिए  माँ बाबा के जेब से चोरी करते थे रात को ही। बिस रूपया में सिनेमा की टिकट मिल जाते ,फिरभी ,उन्होंने तिस रूपया जेब में दाल देते थे। आज भी जब तक घर न आये हम तब तक जगे रहता है वह अपने कमरे में। हमारे जॉइंट फॅमिली है ,बाबा को ऑफिस भेजना ,हम चारो भाई बहन को स्कूल कॉलेज भेजना ,छोटा चाचा को कॉलेज भेजना ,ठाकुमा,दादा की खाना दवाई सब रेडी करते थे मेरे माँ ,फिरभी कभी नाराज नहीं हुआ माँ। छोटी  बहन बीमार पड़े ,माँ कमरे में उसे सुला के , किचन का काम सँभालते थे। घर में पूजा हो रहा है -माँ सब जुगाड़ करते थी बुआ और चाची  को लेकर। मामा कितने बार आएथे ,दीदी चलना कुछ दिनों के लिए हमारे घर ,बाबूजी,माँ तुझे देखना चाहते है। माँ हास् के बोलै। .. यह क्या होगा ?माँ बाबूजी की बोलना ,में ठीक हु ,मौका मिलते ही आके मिलूंगा। कितने साल होगये माँ को वह मौका मिले ही नहीं। मेरे माँ भी आपके माँ की तरह केयरलेस है ,आपने कमर दर्द और पीठ  दर्द के बारे में दवाई लेते ही नहीं ,फिरभी हम लोगो की थोड़ा सा खासी होते ही उनके दुनिया उठोल पथोल हो जाते थे।

 मैनेजमेंट स्टाफ के पास एहि क्वालिटी होते है। माँ की प्यार से इंस्टिट्यूट और जूनियर स्टाफ को देखो लेकिन कण्ट्रोल रखने के लिए,  बीच बीच में चौकीदार की तरह चिल्लाओ ---जागते रहो ,जागते रहो। ... इसको सीरियस मत लेना ये सिंपल  nische है। 



No comments

Powered by Blogger.