7 kilometer ki romance - yodi dong

7 kilometer ki romance

                     7 किलो मीटर की रेगुलर रोमांस 

Image result for free image of  old age morning walk
7 kilometer ki  romance
 उस टाइम पर हम  लोग न्यू दिल्ली के  जनकपुरी में रहते थे. ऊपर वाले फ्लोर  पर हम लोग रहते  थे। ग्राउंड फ्लोर में मकान मालिक रहते थे।  मैं नौकरी  करता हूं होटल इंडस्ट्री में,  तो रात हो जाते हैं घर वापस आते आते।  मकान मालिक,बर्मा अंकल  70 साल के थे, आंटी जी थी 63 साल  के,  अंकल जी. मकान मालिक थे।  उन लोगो ने अगर कोई अच्छा खाना बनावे ,  तो हमें खिला देते थे ,कोई भी अगर नए  कुछ भी बने सीधा हमारे ऊपर वाले कमरे में पहुँच जाते ,आहिस्ता से झूमा को बुला के कहता है- बाबू कितने बजे आये काल?ये लो जॉयेर की रोटी और सर्दी की सब्जी,देशी घी लगाके दिए है ,दिल्ली में ये सब खाओ ,सर्दी कम लगेगा.वह तुम्हारा मुरी में कुछ फ़ूड वलुए होते नहीं। लोकल पेरेंट्स  थे हमारे,नए नए परिबार सुरु किया था में और झूमा।कोलकाता में था हमारा परिबार ,हम दोनों के ही माँ और पिताजी सोचते थे दिल्ली में अकेले कैसे हम लोग रहेंगे ?

भगवन मिला दिया हमे बर्मा अंकल और ौंटी जी को। उनके इकलौता बीटा ुस्ट्रालिया में सेटल्ड है। तीन साल छोड  के आते है अंकल,आंटी से मिलने। अंकल आंटी भी जाते  है ऑस्ट्रेलिया पांच छे  साल में एकबार। सायेद इसीलिए उनका पूरा प्यार हमे मिल रहा था।

अंकल जी और आंटी जी दोनों इतने ग्लैमरस  थे ,की लोगो की नज़र पहले उनकी ग्लोइंग स्किन पर एते है। 73 साल की उम्र में भी देखने लायक था, कितने बार पूछा हमने - कैसे यह संभव है ? दोनों की लड़ाई होते थे रोज़ , दोनों की बातें करना   है बच्चों की तरह, लड़ाई करते हो, हमें भी साक्षी मानते थे। अंकल  और आंटी दोनों ही  करते थे सरकारी नौकरी, अभी  आंटी और अंकल दोनों ही रिटायर कर चुके  और घर में मन लगाया था. हर रोज सुबह दोनों आते थे मॉर्निंग वॉक करके।

अब क्या हुआ अंकल और आंटी को हम लोग  जब उनसे पूछा, कि आप कैसे हैं ऐसे ;तो वह हश पड़े। नहीं आंटी हश्के टालो मत ,इतना फिट और फाइन कैसे रहे सकते हो। ौंटी जी  ने बोला- ऐसे कह सकते हो कि हम दोनों एक दूसरे से लड़ते हैं, तभी हम लोग, ऐसे फिट और फाइन है, तुम्हारे अंकल जी से हम रोज़ लड़ते है, तभी ऐसे फिट है। हमने पूछा -आप और अंकल जी रोज़ लड़ते हो और इसी लिए इतना ग्लेमर है?बिलकुल ठीक सोचा तुम दोनों। में अंकल जी पूछा-अंकल आप रोज़ आंटी जी से झगड़ा करते हो?अंकल जी बोले -नहीं बेटे में कम करता हु ,तुम्हारे आंटी ही ज्यादा लड़ते हमसे।  सिर्फ हस्बैंड वाइफ लड़ने में ही ऐसे ग्लैमर है ?

हम लोगों के समझ में नहीं आया थे! हम हैरान था. फिर आंटी ने बोला - अभी तुम लोगों को मैं पूरा खोल कर बताता हूं , कि कैसे हम लोग फिट  एंड फाइन  है.  क्योंकि हम दोनों रेगुलर 7 किलोमीटर पायदान, एनिकी मॉर्निंग वलक करते है।

- क्या कह रहे हो? रोज आप लोग 7 किलोमीटर वाकिंग करते हो?

उन्होंने बोला था - हां बेटा हम दोनों 7 किलोमीटर रेगुलर वॉकिंग करते हैं-
- यह कैसे सम्भब हुआ, यह तो बताइए!  आंटी जी ने मुस्कुराते हुए कहा- तो फिर सुनो पूरा- तुम्हारा  अंकल और मेरे बीच में यह चुकती  हुआ, हम में से जो भी झगड़ा करेगा वह, 7 किलोमीटर सुबह वाकिंग करेगा. तुमको मालूम है बेटी, तुम्हारे अंकल के साथ मैं झगड़ा करता हूं सबसे ज्यादा. और मुझे ही रेगुलर चलना पड़ता 7 किलोमीटर सुबह-सुबह।
हम दोनों हंस पढ़े , पूछे थे -आंटी जी,  आईडिया तो  मस्त है;जो झगड़ा करेगा वही साथ किलोमीटर मॉर्निंग वाक करेगा।आप झगड़ा करते हो रोज़ तो आपको ही ,रोज़ मॉर्निंग वाक करना पड़ता। लेकिन फिर अंकल जी कैसे फिट एंड फाइन है?
में झगड़ा किया तो मुझे चलना पड़ा सुभे सुभे और तुम्हारे अंकल जी मुझे फोलो करते करते आते है पीछे पीछे। फिर उनकभी ७ किलोमीटर मोर्निंगवॉक हो ही जाते ! और इसी तरीके से हम दोनों फिट एंड फाइन है ,शरीर को रोज़ आधा घंटा मेहनत करवाओ फल हाथो- हाथ मिलेगा।हमारे हेल्थ हमारे आपने हाथो में ही है। 7 किलोमीटर की रोमांस जिंदगी को खूबसूरत बना दिए। ....

,

No comments

Powered by Blogger.