Saturday, November 9, 2019

Bulbul cyclone yaad dila raha hay Aila ki

Bulbul cyclone yaad dila raha hay Aila ki

          Bulbul cyclone yaad dila raha hay Aila ki



Bulbul cyclone iski power bada liye already.Jitna sunder sa Panchi ke saath yiski naam rakhka gaye ,ye cyclone ussey bhi danger ke akar le raha hay. 13 kilometer ke aas pass yis ki bayu bahene ki gate (speed)tha ,Abhi subhey ke 3bajke 35 minute, yiski gati hogaye 70-80 kilometer ki rafter se .Aaj shanibar hay ,kaal rabibar subhe tak yehi cyclone jamin me girega .ye abhi ek danger cyclone ki rup le Chuka.Bulbul cyclone yaad dila raha hay Aila 2009 ki.

IMD do din pahelei forecast Kiya tha rajhashthan se Bulbul cyclone ki utpatti ho raha hay .yehi low pressure Bayu samay ke saath hi powerful hoga .Aur wohi hote ja raha hay .Me job yehi blog likh raha hu tab Bahar 70-80 kilometer ki rafter se hawa chal raha hay .kisi ke tin ke Chad(shade) ud gaye tez awaz ke saath!

2009 me Cyclone Aila gira tha sunder ban me ,us time me jo tabahi Macha tha woh aaj bhi mere man me baitha hay .Me ustime tha Diamond harbour ki ek hotel manager.Early morning se suru Hua tha barish .fir din badte gaye saath me barish bhi.Pura 24 pargana west Bengal ke bahut hi nukshan me pada tha .lakho log beghar ho Gaye,kitne janowar mare they .

Orange declaration diye hay IMD ne .Sabhi ko batay gaye swabdhan rahene ke liye .Diasater team pohuch Chuka hay cyclone area me .school chutti diya gaye,kuch ilaka se logo ko hataya gaye .Machchi pakad ne wale ko kaha gaye-woh samunder me na Jaye ,tab tak jab tak yehi crisis time per na ho .Digha,Kakdwip,dono 24 pargana aur Howrah isme aate hay .Sunder ban to Jamin me cyclone girne ki main area hay .

Abhi abhi khabar Mila bulbul cyclone ki yatra path Odisha ki taraf bhi aa raha hay .janha janha yehi cyclone Jayga ,unha hi Jamin ki upor  hulchul,hudkamp mach Jay ga . Kancha ghar,tin ki shade,bade bade per,Electricity ke post,telephone tower ki nukashan pohuch ta hay yis cyclone ki time pe .Life loss ki bahut hi chance rahe jate .

A hay IMD ki declaration -

Severe cyclonic storm Bulbul intensified into a very severe cyclonic storm at 5.30am on Friday, centred about 530km south-southwest of Sagar Island. To cross West Bengal and Bangladesh coast across Sundarbans Delta during early hours of November 10.

Prasashan taiyer hay yis ke saath mukabala ke liye .T.V me news channel sare bar bar  khabar de raha hay Humey .Bulbul cyclone ki gati  bidhi ke bare me .Technology aaj kaal bahut hi smart aur advance ho chuka .Life save to ho hi jate .janha pe cyclone girta hay unha se hataye ja sakta logo ko ,yisi advance technic dwara .Fisher man ko roka data samunder Jane ke liye yisi ,advance information ke dwara .

Hum logo ki Aila 2009 ki khatar nak cyclone se jo experience hay use kaam pe lagay ga.Kosis karenge nukshan se bachne ki.Bujorg aur bachchey ko Bahar Jane nehi dengey, yehi do din.
Apana car, scooter bade ped ke niche nehi rakhenge .Ghar me candel aur sukha khana rakhenge,janwaro ko safe jaga rakhne ki bandobast karenge .

Ab intezer hay Sunday ki, jab cyclone, jo samunder me creat Hua aur dhire dhire Apana Shakti badaye,fir woh chal datey hay Jamin ki taraf, jo jamin ki hawa halka Hua hay usiki taraf.yisi aane jaane ki Karan hi tabahi maach jate prokreti me. Manav jati  ko sahen ne hay yise? 

Nature se ladai karke hi Manav jati agay bad raha hay . 1902 me pahele baar yisi cyclone ki saath hume parichay hona suru Hua,nature ki care na karke hum agey Jane ki kosis ki hay ,usika bhugtan hote hay ,nature ki badlao chaltey hi jatey.Ped ki sang rakshan karna chahiye humey.  Bulbul cyclone yaad dila raha hay Aila ki yisi trauma se Bahar aana hay humey,Nature ke saath hume Jina hay,nature se ladke hume Jina hay...dusra kuch aur rasta hay kya?



Wednesday, November 6, 2019

celebrities make-up and with out make-up

 celebrities make-up and with out make-up

                    celebrities make-up and with out make -up

https://www.kakolib.com/2019/11/celebrities-make-up-and-with-out-make-up.html

 celebrities make-up and with out make-up

Aaj kaal ke din me celebrities hone ki ichcha hum sabko hay ?har koi chahete hay ki unko alag sa attention mile!celebrities hone ke liye hum sab bal bana raha hay ajib sa.make up lete hay kadak sa,bhul jate hay ki make up lena ek education hay, jab ki celebrities' khud ko present karte hay make-up and with-out make- up may.
Me manta hu glamour duniya me celebrities hote hay aur education duniya me celebrities hote hay.Jaise film artist,singer,Music composure etc.Nobel prize winner ,professor,teachers,sports man ye sab bhi hay celebrities.Inka kaam,inke contribution society ke liye,inko  aam janta ke pass,  celebrities bana diye . 

Ek aur community hay jo jabardasti se,khud ko celebrities proof Karne ki kosis me laga hay!Unki celebrities hone ki khabar achanak sa aate hay aur fir society ki upor chodi ghumana suru Kar datey .Office se 9ghanta kaam kar ke aap stand pe khada ho bus pakad ne ke liye .Tabhi us celebrities ki gadi Jay ga ,police pilot ke saath?

Ambulance Rukwa datey yehi log.Office Jana,ghar wapas aana ruk jatey inke Karan !Aapke aur mere sabhi jaruri kaam inke samne ruk jate hay ,kisi bhi festival me inlogo ki dada giri ke agey real dada Sourav Ganguly bhi Pichey wale seat me Jake baith Jatey hay !in celebriets logo ko kabhi bhi with out make-up me nehi dikhay datey .yehi celebrities' log always same dress aur same make up me ready rahete hay !

Film artist sharey jo glamour ki duniya me 24 ghanta hotey hay,woh kosis me hay thodi der ke liye celebrities make-up se dur with out make-up me rahe,hum aur aap jaise thodi der ke liye zindegy bitaye.kiu ki woh hay asli celebrities.Dikhawa ki duniya ki na-dikhawa Karne wale attitude hay ye.

Ek tarah ke celebrities kisi garibke ghar, khana khate hay Pura India ke media ke samne!Sayed media na hogi to khana hazam nehi hoga? aur ek celebrities aapne beti ko leke morning walk me nikla aur piyas lage to ek bujorgo ki ghar me jate hay paani ke liye.fir paani ke saath aapni beti aur woh khud bhi gur roti khate hay bade Khushi se,kisi ko dikhane ke liye nehi ,aapne beti ko celebrities make-up and with out make-up ki zindegi ko dikhane ke liye.


Monday, November 4, 2019

Shefali Jariwala the Thong Girl's of Big Boss13

 Shefali Jariwala the Thong Girl's of Big Boss13

                      Shefali Jariwala the Thong Girl's of Big Boss13

https://www.kakolib.com/2019/11/shefali-jariwala-thong-girls-of-big.html
Shefali Jariwala 
Mtv उस टाइम पे अकेले था म्यूजिक चैनल टीवी में। छे बजे की आस पास होगा,दिल्ली में ठण्ड आ चुके है ,२ण्ड फ्लोर की Bar हमारे धीरे धीरे फुल् हो  रहा है। बार में दो ही चैनल हम चला ते है,एक स्पोर्ट्स और दूसरा म्यूजिक चैनल। अचानक नज़र गए टीवी में ,गाना  पुराणा  था ,लेकिन म्यूजिक एल्बम में नाच रही है एक नया लड़की। उसकी परफॉर्मेंस अल्टीमेट था ,गेस्ट भी कहने लागि --"अरे भाई साउंड बड़ा दो ",तभी पता चला एक्ट्रेस का नाम है -Shefali Jariwala , गाना है 'काँटा लगा... 

बाकई  काँटा लगा दिया उन्होंने लोगो के दिल में। उनकी कैट्स ऑय ,और लाजवाब फिगर पूरा इंडिया को हिला दिया। एल्बम सुपर हिट हो गए। शेफली जरीवाला छा  गए म्यूजिक चैनल में। उनकी इनोसेंट हांसी और परफॉर्मेंस के बजा से पूरा इंडिया के एंटरटेनमेंट दुनिया कॉंप रहा है। हर शादी में बज रहा कांटा लगा ,हर पार्टी में बज रहा है वही गाना। फ़िल्मी दुनिया उनको लेने के  लिए तैयर हो चूका था। 

सुपर स्टार सल्मान खान और अक्षय कुमार के साथ उनको चांस मिले थे एक्टिंग करने को। मुझसे शादी करोगे में उन्होंने किरदर निवाये थे। उन्हे भी वही गाना -'काँटा लगा। ..... उसे यूज़  किया था। होप आपके समझ में आ ही गए होगा ,शेफाली जरीवाल की पॉपुलैरिटी की। उनकी स्क्रीन प्रेसें टेशन  था जबरदस्त। 


AT A GLANCE SHEFALI JARIWAL

24 November 1982 जनम हुआ था उनका ,मुंबई ,महाराष्ट्र में। २००५ को उन्होंने इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किये थे उन्होंने,सरदर पटेल इंजीनियरिंग कॉलेज से। उसी साल शादी भी किये थे ,म्यूजिशियन हरमीत सिंह को,जो टिका था २००९ साल तक। 2014 में नौ साल तक डाइवोर्स रहने के बाद पराग त्यागी जो एक्टर है उनसे शादी किया। 

2002 से पहले ही उन्होंने बहुत सरे एल्बम में भाग लिए  थे। लेकिन  कामयाबी आये  काँटा लगा एल्बम से ही।
और उसके   बाद उनको पीछे मोड के देखना नहीं पड़ा था। ये भी सही है की जितना कामयाबी उनको मिल ना चाहिए था वह मिले नहीं। 
डांस डांस ,बूगी वूगी ,और अब की कलौर्स टीवी का धमाका। BIG  BOSS 13  एक बड़ा सा एक्सपोज़र। एंट्री हो चूका उनकी। एंट्री के साथ  ही हल चल मचाया। 

अब ये कहना मुश्किल की, शेफाली जी की पॉपुलैरिटी एक ही है! नाकि  BIG  BOSS 13 की कैंपेन जोरदर है तभी फिर शेफाली जी की खबर मिल रहा है। कुछ ही हफ्ते में साबूद  हो जायगा क्या सच है। बिगबॉस एक पॉपुलर रियलिटी शो है। सलमान खान की एंकरिंग अलग सा अट्रैक्शन है  बिगबॉस में। बहुत सरे सेलिब्रिटीस भाग लेते है। BIG BOSS के अंदर झगड़ा,प्रेम,रोमांस और चक्रान्त 
देखने और सुनने के लिए विएवेर्स उन्मुख है। 

देबोलिना भट्टाचार्य के लिए,जो की बिगबॉस के एक पार्टिसिपेंट है ,शेफाली जी की कमेँट्स है-' में उसे डर  ता हु !
वह मुझे अटैक कर लेगा। .. यही कमैंट्स मीडिया जगत को छा गए,क्या कारन है भाई !सब की क्यूरिसिटी है इस कमैंट्स के ऊपर। टी ार पि आलरेडी हाई हो चूका ,अब देखना है बिग बॉस के अंदर में shefali जरीवाल काँटा लगा सकता है दूसरे कॉम्पिटिटर को ये खुद ही काँटा खाके बहार आते है। 



Saturday, November 2, 2019

Delhi and NCR pollution increasing continuously

Delhi and NCR pollution increasing continuously

   Delhi and NCR pollution increasing continuously 

आज कितने साल हो गये दिल्ली के पोल्लुशण बढ़ते जा रहा है। कम होने के नाम ही नहीं,दिल्ली और एन सि आर  के प्रदूषण बढ़ते जा र हा है दिनों दिन। इतना कुछ बाते नेता लोग कहते रहते है, प्रकृति की इस साबधान बानी उनके समझ में नहीं आ रहा है क्या ?ये तो जान पूछ के अनजान बन रहा है ,लेकिन नुकसान है पूरा दिल्ली बसी के ,पोलुशन नुकशान  कर रहा है सब की ,कोई पार्टी समर्थक देख के नहीं कर रहा है। बीमार पड़  रहा है सब ,बुजुर्ग और बच्चे इसमें शामिल है ,सबसे ज्यादा। 
Delhi pollution increasing continuously 
ऐसे अनुमान किया जाता है ,की पोलुशन सुरु हुआ  पहला एशियाड  के समय  सेहि।  उसी टाइम से ही निर्माण सुरु हुआ था ,ज्यादा से ज्यादा नियम तोड़के। स्पोर्ट्स विलेज बने  थे  कानून को अंगूठा दिखाके। पेड़ पौधे साफ हो गए थे  फटा फट। हरा दिल्ली सुखना चालू हुआ तब से। बड़े बड़े बिल्डिंग बन गए ,काम्प्लेक्स बने ,होटल बना  ,पैसे बनाने की चक्कर पे ,ऑक्सीजन जो  सबसे जरुरी है ,जो प्रकृति हमे मुफत में सप्लाई देते है ,उसेही कॉम करने की जबर्दस्ती हम दिल्ली वाले ही सुरु किया।  उसी का नतीजा है एहि पोलुशन। 

हम आपने भूल की दूसरे नाम दिए है। कहते है -'दिल्ली की आस पास वाले राज्य धन पराली  जलने के कारन ही ,पोलुशन हो रहा है इतना दिल्ली में। हम भूल गए पेड़ काटने की गलती ,इतना फैक्ट्री बनाना ,हाई राइजिंग बिल्डिंग तैएर करना। और पेड़ न लगाने की पाप है, आजके पोलुशन। जितने दिसेल की वेहिकल चलते है दिल्ली में उसकी दूषणकाः जायगा ,मायापुरी डेल्हीकी एक इंडस्ट्रियल बेल्ट है ,जा के देखिये, पूरा ठेंगा दिखा के फॅक्टरीआ चल रहा है और दूषण  फैला रहा है। लम्बे लम्बे युकलिप्टुस  पेड़ था ,आज काल कितने देख पते आप? 

हज़ारो कार और बाइक  रोज़ सुभे से लेके रात तक  दौड़ते है दिल्ली में, उसकी पोलुशन कहा जायगा ,मेट्रो रेल बने है दिल्ली में ,थोड़ा सा गद्दी चलना कम हुआ ,लेकिन डेवलपमेंट की सुरु में जो भूल किया उसकी
किम्मत , दिन के दिन बढ़ते ही जा रहा है। दिल्ली में हर किसीके पास कार येतो बाइक है ,और एक नहीं की,एक एक के पास तो दो दो था में खुद देखा लोग कपडा कलर कर रहा है रास्ता किनारे ,उसकी केमिकल मिलरहा है नाले में,जमीं में। निकल फैक्ट्री खुले आम निकल कर रहा है , दिल्ली की जन बहुल मार्किट में।

बड़े बड़े फॅक्टरीआ उनका केमिकल युक्त पानी और धुआँ आसानी से मिला रहा था डेल्हीके आकाश में। कभी नगर निगम को चुपके येतो लालची नगर निगम स्टाफ को पैसे देके !आज पन्द्र दिनों से दिल्ली की आश्मान छाए है धुआँ में। बच्चे स्कूल जाते ,बुजुर्गो घूमने जाते इसी आश्मान के निचे और बीमार हो जाते तुरंत। कैसे बचेंगे हम इस पोल्लुशण के हाथ में से ,कैसे बचाएंगे हमारे फेमस ,इंडिया की शान दिल्ली को ?


यीस साल गवर्नमेंट का  कहना है की दिल्ली की पोल्लुशण काम हो गये। निर्माण बांध किया गए ५थ नवंबर  तक। नॉएडा ,ग्रेटर नॉएडा ,दिल्ली ,गुडगाँव इसकी  चपेट में है।   आस पास की राज्य को अनुराध किये  गए पुवाल मत जलावे। दिवाली में धुआँ वाला पटाखा और आवाज़ वाला पटाखा न जलाये। पुलिस को निगरहि रखने बोलै गए ,लोग भी थोड़ा डरे और समझे है की -सबधाणी हमे खुद करनी होगी ,नहीं तो दिल्ली में मानव जाती तथा प्राण नहीं रहे गा। में रिस्पांसिबिलिटी के साथ कहे रहा हु ,जी काम आये ये सबधाणी !

अब चाहिए इस सबधाणी के साथ ,दिल्ली को हरा बनाने की कोसिस ,पौधा लगाए सब ,जंहा भी खली जगा मिले उंहा  पेड़ लगाइए। खतरनाक केमिकल वाला फैक्टरी  बांध करे।   बांध करे आपने लालच के कारन पेड़ पौधा खतम करना। उत्सव मनाइये पोर अपना परिबेश को बचाके। हाई राइजिंग बिल्डिंग वाले आपने बिल्डिंग में प्लांट लगाइये ,की बाताबरण में ऑक्सीजन की कमी न हो !आप आपने बच्चे को एहि संस्कार पहले दीजिये की प्रकृति को सेवा करो,रक्षा करो। नहीं तो प्राणहि नहीं रहेगा।

दिल्ली में देवली के दिन हमारे होटल में बोनस दिया जाता। बता जाता है दिवाली गिफ्ट और मिठाई। धुआँ और पोल्लुशण के कारन में बेसमेंट की ऑफिस  में रहे जाता था.मुँह में मास्क लगाके कार की शीशा उठा के ऑफिस से घर वापस आता ,ख़ुशी की दिवाली मेरे लिए आतंक की दिवाली होते थे ,दिल्ली में !  दिवाली की दूसरे दिन ही मुझे डॉक्टर के पास जाना पड़ता था। मेरे जनकपुरी  की फ्लैट के सामने वाला पेड़ में घोसला होते थे पंछियो के। उनमे से दो चार मरे पड़े रहता दिवाली की दूसरे दिन। ......

पोल्लुशण के लिए आप सबसे बिनती है पॉलिटिक्स को दूर रखिये। उनके टाइम में कितना पोल्लुशण होता आज कितना होता एहि लड़ाई को रोकिये। आज की दिल्ली में लोधी रोड इलाके में पीएम 2.5 और पीएम 10 दोनों ही 500 पहुंच गया जोकि 'गंभीर श्रेणी' में आता है।इंदिरा पु रम में 449 एयर क्वालिटी इंडेक्स है और नॉएडा में वही एयर क्वालिटी इंडेक्स है- 451 ..हॉट मिक्स प्लांट और स्टोन क्रशर बांध है अभी। धन के परेली जलना बिलकुल बांध किया गए। 

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार  को पूछा था इस दमघुट बायु  के बजा क्या है ?सरकारी रिपोर्ट आए ,की -आसपास की राज्य धान  की पराली जला रहा है ,इसलिए ऐसे weather  दिल्ली की है ,पंजाब में अभी भी पराली जला रहा है ,जबकि पोलुशन ४१% काम हुआ  है ,पिछले दो साल की तुलना में। लोग फिरभी एक्साइज कर रहा था पार्क में ,उन्हें मन किये गए ,बहार एक्साइज करने में और स्कूल भी ५थ नवंबर तक छुट्टी दिया  गए। लेकिन मेरे समझ में नहीं आरहा है, पिछले २० साल से,Delhi and NCR pollution increasing continuously,  दिवाली के बाद ही,दिल्ली की  पोल्लुशण की मात्रा इतना किउ बड़  रहा  है ? 












Wednesday, October 23, 2019

Naam kya hay?

Naam kya hay?


Naam kya hay? dogs and humans.... 





https://www.kakolib.com/2019/10/naam-kya-hay.html
dogs and humans

Bebo mera pyara sa pug hay.haan ji ek chota sa ,cute sa doggy hay.Ek saal 10din Hua hay mere ghar me ye padhare hay .Iski Umar hay ek saal aur ek mahina.jab mere biwi aur bete ne isko humare ghar me laye the,tab a tha 20 din ki  .Mujhe a bilkul passand nehi tha ,lekin aaj kaal a sabse karib ho Gaye .Pug matlub woh Vodafone wale doggy? jo aap dekhte ho advertisement me,usika stories hay a,story of  dogs and humans.


Humare yis apartment ki sare jante hay Bebo ke bare me ,bachche aate hay uske saath khelne me.Me ground floor me  raheta hu ,gate pass mera flat hay ,aate jaate har koi Bebo ko bulate raheta hay-Bebo kya kar raja ho?Bebo bhi bhagte Hua khirki ke  pass jaate aur dono payer Dewar pe lagake dekhte raheta hay puchne wale ko !Khush ho jate puchne wala aur sunney wala.Hum kabhi unhe dekhte ye kabhi ignore Kar date hay .Bebo lekin sabke awaz pe hi aapna response jatete hay.

Humare is building me 21 flat hay.21 flat me 21 paribar rahete hay .Har kisi ke saath aachchi khasi jaan pahechan hay .ek dusre Ki achcha bura wakt share Kar lete hay .Ground floor me 4flat hay.me raheta hu ground floor me ,mujhe aur mere biwi ko har koi jante hay.  Hum donoi sabse bate karte hay,chup rahena dono Ki adat nehi hay.mere samne wali Mosa ji aur Mousi ji umar hoga ,75 saal mosi ji aur 87 saal Ki mosa ji.

A lovable couple,jodi shander hay.subhe se leke raat tak humare khabar lete rahete hay.Mosi ji ki personality tha blue-blood wali lekin mosa ji they common middle class ki Jay sa hi .-'Babu kab office jaoge ,kitne baje wapas aaoge? Mosa ji puchte they.asliat may ,unko yaad nehi raheta.Bhul jate hay.Har kisi aane Janae wale ko puchta tumhara naam Kya babu?usi babu ko jab dekh pate the, tabhi puchte woh,kya naam tumhara babu?

Babu paresan aapna naam batate batate,lastly Mosa ji ko dekhte hi chupke se bhag jate they.Mosa ji ,kisi na kisi babu ko pakad te they aur fir kahete the-'babu mera do laddu la do mithai ke dukun se '.naraz hote they ledke ,lekin la bhi dete they .me do char ledke ko dekha tha,ki scooty me aa raha tha ,Mosaji ko dekhte hi ,scooty ghuma liya aur fir dusra rasta pakad ke bhag jata tha !

Aaj mera week of hay,ghar Ki saman sare mangwa diye humne.Electric bill jama Kar diye.Sabji,chiken aur fish kharid laye hafta bhar ke liye. Lunch ke baad me baitha Laptop leke
aur Gharwali gaye unka mayke ghumne.Bebo hay mere paas .do char bate kiye use ke  saath aur fir aapne blog likhne me mast ho gaye .Bebo baith Gaye mere nazdik,aur fir bhat ghum Dena chalu Kiya .

Yis garmi ke dopaher me ,Logo ne a/c on karke so raha hay,jo job karte woh office me,aur ghar me rahene wale gharme hay .yehi Mosa ji,dopaher ko Jyada der tak sote nehi.sade teen bajte hi ,building Ki bahar do cement Ki bench me baith jate aur puchte rahete hay-'Babu,kya naam tumhara ---

Hotel industry me operation me jo hay unko friday,Satur day ye sunday me off nehi milta ,yis liye mera off day hay Wednes-day.Topics Ki upor pura concentration lagake likh raha hu blog Ki naya post.Bebo ghar bahar Kar raha hay,lekin woh bahar nehi jayga,

Ghar ki kaam Karne Wali Didi aayi ,Maine darwaza Khul diye.Bebo uthke unke saath thoda khel kud Kiya, me aapna laptop me Pura dhyan diye. Didi kitchen me bartan dho rahi hay,away mil rahatha mujhey,achanak Bebo ki awaz aaya dur se ,Bebo bhook raha hay.Uski awaz itna jor nehi hota,itna chota doggy iska awaz bhi kam tha .

Laptop se maine muh uthaya aur dekha Bebo hay nehi ghar me !flat ka gate thoda khula tha to Bebo nikal gaye hongey .same ki Mosa ji aur Mosi ji ki flat ki darwaza ki taraf se hi awaz aa raja tha Bebo ki, maine kursi chor ke utha,Bebo bhokte hu daur ke mere pass aaya aur fir bhokte Hua Mosa ji ki flat ki taraf Gaya. mere darwaza tak Jane ki bich me Bebo fir daudte Hua aaye,kya baat hay Bebo ki gale ki  awaz to sunahi nehi deta,Abhi itna kiu bhok raha woh?Ek bar man me aaye-kahi Mosa ji use to naam nehi puch liye?

 Didi kaam karte karte bola-Bhaiya Bebo Bahar gaye hay,pakad ke laiye.me to ja hi raja tha ,lekin Bebo bar bar daudte hua aa raha tha.mere flat ki Bahar aye to dekha,Bebo Mosa ji ke flat ke samne khada hay,mere taraf dekh ke bhok raha hay ..Me bebo ko bola-'Bebo aa ja ,dopaher ko sab so raha hay ,awaz nehi karte aaja .Bebo aaye nehi ,upor se mujhey hi bula raha tha chilla ke' .

Me usko pakad lane ke liye Mosa ji ki darwaza ki taraf gaye,dekha darwaza khula hay aur Bebo fir kamre  ki ander gaye aur chilla raha tha,may abhi jaldi gaye usko pakad ne ke liye .....Nazar pade Mousi ji kaise karke floor me baithi thi,unki Sar jhuki thi.,Maine pucha- Mosi ji aap aise baithey ho kiu ?Sara nehi mile, unki aankhe bilkul bandh tha.

jab unko choya Maine,dekha badan bahut hi thand hay,Mosa ji to bahar hongey ,fir me didi ko bulbawe,mere floor ki do char ko bul bawa,doctor aaye,unke gharwale ko khabar diye aur Hospitalised Kiya unko.Ek heart stroke ho Gaye Mousi ji ko .Bebo unko aise baithey dekh ke hi chilla raha tha.Unka flat ka darwaza khula tha aur Bebo ki Nazar pade they unke upor.

Aaj Mosi ji hospital se ghar lauta they.unki betiya laye unko hospital se.Flat ke sabhi ne dekhne aaye aur Bebo ki popularity aur bad gaye ,Sabhi ne bola agar Bebo na hote to kya hota?Chamat Kar to a ho gaye ki Mosa ji-Bebo ko dekhte hi bolte they-Bebo achcha ho na!woh  fir kabhi nehi puchta tha iska naam kya hay?ye fir proof hua dogs and humans are friends.










Sunday, October 6, 2019

ASURAN the south Indian movies and its reviews

ASURAN the south Indian movies and its reviews

            ' असुरन'साउथ  इंडियन मूवी की रेविएवस 

असुरन देखने के बाद ही मुझे लगा इसकी ऊपर मुझे रेविवस लिखना चाहिए। लोगो के पास ा खबर पूछा देना है की एक बढ़िया सा क्लासिक कमर्शियल मूवी है असुरन। अगर इसे नहीं देखेंगे तो बड़ा मिस कर देंगे आप एक अच्छा सा फिल्म देखने की मौका। फिल्म देखने की खुसीआ फिल्म खतम होने के बाद आप को महसूस होगा। कहानी,प्रेजेंटेशन ,सिनेमेटोग्राफी ,और कला कर लोगो की अभिनय आप को मोहित कर देगा। मूवी बने है देखने की लायक। 

पुरमोनी द्वारा लिखा गए ए  कहानी  अडॉप्ट किया गए फिल्म के लिए। असली उपन्यास को रिवॉर्ड मिला है ,नाम था बक्कोई। जात पात और ुचा निचा को लेके ये कहानी लिखी गई। उपन्यास की हर चरित्र में प्राण दिए है लेखक ने। ये writter है इस धरती से ऊगा हुआ ,इसलिए इनको पता है हर चरित्र के बारे में ,और अपने लेखनी के सहारे उन सब कॅरेक्टर को , ज़िंदा भी कर दिए थे लेखक। 

Asuran

असुरन स्टोरीज है एक विओलेशन के भरपूर रिवेंज  स्टोरी। वेटरी मारन ,जो डायरेक्टर है इस फिल्म की ,उन्होंने हिँसा को लाये पूरी तरह। आप चाहे जानते हो की हिंसा  कोई भी प्रॉब्लम की सुझाव नहीं होता ,फिरभी इस मूवी के लिए लगा इस की जरुरत था ,नहीं तो ये रिवेंज  स्टोरी अधूरा रहे जाते। जॉब आपके परिबार को अत्याचार से बचाने  की कोसिस करोगे तो अंदर की असुरन निकल ही आते !

धनुष जो हीरो है इस मूवी की उन्होंने श प्रतिसत उजाड़ के एक्टिंग की है। उनकी फिजिकल एक्सप्रेशन आपको मोहित कर देगा। डायरेक्टर वेटरी मारन की टैलेंट स्टोरी चुनने से शुरुआत होते है ,और फिर धनुष  और उनकी जोड़ी तो कमाल की फल दिए !धनुष की  अभिब्यक्ति आप को  चकित करके रहे देगा। साथमे मंजू बोरियर,तीजाय और प्रकाश जी की  एक्टिंग में आप खुश हो जायेंगे। 

अब  सिनेमेटोग्राफी के बारे में  बोलना हो पड़ेगा ,नहीं तो अधूरा  होगा ये रिव्यु । वह क्या फोटो ग्राफी है !हर ऋतू आप मह्सुश करेंगे पिक्चर की सहारे।  उमस और गर्मी आप को छुए गए मूवी देखने के टाइम पे। सिनेमेटोग्राफर है बेलराज ,मज़े की बात तो ये है की उन्होंने ,इस फिल्म में एक किरदर के चरित्र  निभाए।  बहुत दिन लोगो की याद में रहे जायगा उनका ये फोटोग्राफी ,जीबी प्रकाश बहुत दिनों  के बाद ,संगीत बनाया,असुरन   के लिए ,वह भी दुर्दांत वापसी है उनका।   

जात -पात ,अस्पृश्यता ,छमताबन  लोग की दवाब ,जिंदगी की छोटा छोटा खुशीआं, छिन लेने की प्रयास। औरे  के जीने की हॉक भी कोशिश  करते है छीन लेने की। तब निकल आते  है अंदर की दानब ,असुरन।  गलती से हो जाने वाला गौ -हत्त्या के कारन की शिकार होते है वह। शिवास्वमी और उनका बेटे चिदंबरम की जीने की लड़ाई सुरु होते है। अँधेरी रात को जहिं जहिं  कीड़ा की आवाज़ ,और भागते हुए बाप बेटे की दौड़ -आपको भुला देगा आप हो कहाँ ?एक डर ,खो जाने की महसूस आपके मन  के ऊपर  काम करता है....  एहि है असुरन मूवी की खूबी। 

धनुष की एक्सप्रेशन आप  को मोहोत करेगा ,पैर  में जूता पहन के स्कूल आने की लाज (जिन्दगीमे पहेली बार पहना कॉम के रहते हुआ।) एक्ट्रेस की फेसिअल एक्सप्रेशन,आँखों की  नरमिया ,आप को दूसरी जगत में ले जायगा। म्यूजिक की मुरछोना आपको हैरान कर देगा। एक्शन ,विओलेशन कितना प्रकट हुआ इसमें जब आप देखेंगे ,तो पता चलेगा आपको। धनुष और वेटरी मरान  की जोड़ी से एक कमल के मूवी है ये असुरन ,बहुत दिनों बाद एक अच्छा मूवी आये है। 



Saturday, September 14, 2019

old age home

 old age home

                  


             the granary ashram, old age home

Senior people watching television together royalty free stock photography
Having worked in the hotel industry, I found out how much unknown information there is in the world. A very simple aspect of our lives today I will show you. America is very attractive to Indians. Most Indians think - oh, if  I born in America? But that would have been great. No worries about the job. The government used to pay a hand. I just used to lu. In old age, the government again took responsibility, the children did not want to take our responsibility!

We have several bookings in the morning flight. This famous hotel in West Delhi. From 75% to 85% of the room occupied. This guest is a Bengali family living in the United States. Mr. Mukherjee and his wife and children Sion. Vrindavan, Mathura, Haridwar were the travel schedule of their tour. They will be returning to America tonight. I was at the reception. He said - Let's chat Bangla, I said - I'm coming. when my reliever comes to take charge, I am joining with Santu Mukherjee.


The petals were opened -


I live with my family in Los Angeles. My mother used to live with me, mother died three months ago. Dad died ten years ago. Mom was very brave of me. That's why I came to America. Established My wife is an electrical engineer. After two years in America, I got married in the country. Mom and wife come along. My cousins ​​are responsible for taking care of the country house. I send home maintenance of money every month.

All of America is good, but the interests are greater than they seem to be, with their own happiness and benefits. The laws of the country are always busy watching it. A mother and father cannot rule their own child. If you do, then the law of the United States comes to the fore, and so an 18-year-old boy or girl can have sex by law!

When my wife or I were taking the market with my mother, foreign mothers looked at us with amazement. My mother once went to the Omni Market and saw two old men - automatic wheelchairs doing the shopping. There is no one with. The elderly said that the mother was lucky because her son, Bouma, was shopping. Their frustrating words were frightening to my mother. My mother used to tell me back home - 'I would not have taught your greed. 'Greed for power has taught them to leave their own people!
From then on, the mother used to be upset. I couldn't explain to my mother what I was like. Mother left me. I have come to Haridwar to give a bone dissection. We chatted in front of our room, on the roof of the hotel. I was listening to the words of Santu Babu, he said again - Gellum Mathura and Vrindavan from Haridwar.

Look at Vrundavan, where there are thousands of widows who have left their own children. Thousands of women are living to beg. There is no one to serve the sick, no one to give a little water and no one. They are not American, which is the greed of an Indian child?

 Listen to the very demand of the Old-age  Home today? Why are they doing so because of happiness? It is that teach a son or daughter, reform, but do not forget to grow up. The bond of love will be broken into a win-win addiction. '



I remember saying to my mother's phone - 'Why didn't Haram Jada send us money now? Shall we survive the breeze? Otherwise, I will reach your father with you.' I said, 'Come on mother, I haven't eaten your cooked vegetables for many days. I will be at New Delhi station, when will the mother come?'


Yes, we need the granary ashram, old age home ,because--

@1)who don't have anyone to care for them for the old age home is necessary.

@2)who are homeless but have money they need old age home.

@3)Who needs a special care for 24X7, they have required.

@4)who are money less,they dont have any relatives and old they needs--old age home.




Sunday, September 8, 2019

Hospitality Industry ki kahani,meri jubani

Hospitality Industry ki kahani,meri jubani

                 हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री  की कहानी ,  मेरी   जुबानी। 

https://www.kakolib.com/2019/09/hospitality-industry-ki-kahanimeri.html

Naye naye  New Delhi ki yis star hotel me join kiya maine,f&B manager ki .Energy bharpur tha ,kuch jyada karne ke liye .Naturally Md ki nazar me aaye the hum .Har srevice me Tapas ki jarurat unko aur G.M sir ko padna chalu ho gaye .Mujhe dayityo  deke nischint rahe sakte the woh .

jaise yisbar ek Mumbai se aa raha hay babaji .Umar 30 ke ander,lekin popularity bahut dur dur tak hay unki .Baba ji asan,pranayam aur aurvedic jodi buti se kamaal kar raha tha woh!Bidesh me bhi unki bhakt mandali hay.Babaji yis mahine ki pandraha tarikh se delhi tour me honge .

Humare M.D log(5M.D,unki 5 biwia,saath me 10 bachche)  unke bhakt mandali me aate hay.Hotel ki sabse sera suit unke liye booked ho gaye .Chandrama banquet hall booked hay Babaji jo anusilan karayenge uske liye .Harwakt paise,paise karne wala log bawaji,bawaji me transfer hogaye !Itne bhakt log aana suru huaa ki mujhe laga delhi Haridwar ho gaye !!!


Me chota sa saher se aaye hay ,Babaji ki entrance dekh ke chakit rahe gaye ,car ki convey,fulo ki har ki pahad aur ful ki pankhdiyo ki chirakna ,mujhey hayran kar diye .Jitne aaye sabhi ne safed kapda pahenke aaye,laag raha tha Ghadi dittergent ki ad chal raha hay .Babaji bakei sunder aur khubsurat tha,sabse badiya tha unke hansi.

Babaji ki hansi hi unka main USP tha .Mere upor tha babaji ki dekhval karne ki aadesh.paanch din ki safar tha unka .dusre din se hi me bahut nazdik aagaye Babaji ki .Dharam katha sunne ki layektha Babaji ki muh se .Kitna emotion jod ke woh bolte the .bhakto brind ki aankho kabhi aashnu ,kabhi khushi ki jhalak dikhai dete the .

Aamir gharane ki ladies log they sankha me bhari rakum.20/22 saal ke ledkiya bhar ke aate the.Hotel ki sale bar gaye .jo log dur se aaye woh romm booke kar liye the pahelei ,fir local aamir the dher sare .Babaji ki skin ki glow dekhne layek tha,sar me tha lamba,kaala ghana bal .unka khana pina tha dry fruits,milk aur veg khana.subhey 4am se asan aur pranayam karte woh.us time pe unka snan bagara complte ho jate hay .sardi garmi me ek hi routine unka. 

Babaji hume sikhay the pranayam aur asan fursat me,hum dono near about same age ke the .unhone mujhe bole they Ritha lagao bal me chamkane lagange bal .Bakei ritha use karke mujhe bahut aachcha result mila.Pranayam sikhaye the mujhe ,mere ander se gussa chale gaye .

M.d bola 'Tapas,babaji ki kirpa to tumhara upor pade hay,dekhna tumhara kismat chamak jayga .'Thik hay agar unke nazar se mera kismat chamke to bura nehi,me hansh diye halka sa,ye bhi Babaji se sikha ki hanshi kaise honi chahiye .Babaji ki comunication knowledge unbeatable hay .

Dhir aur ahista bate karna,halka sa hanshi,sar hila ke ha bolne ki kya kimat hay -woh Babaji ne sikhaya mujhe, jab babaji apna kamre me aram karte hay us time me .Woh chamat kari hay ye kabhi unhone nehi bola.Ye prediction tha unke bhakt jono ki !

Babaji ko chune ke liye kya kya pagal panthi harkate kar te the unko bhakt jon .Babaji halka sa hanshi ke saath sabke harkat avoid karte hay.Babaji ki jo manager tha(pradhan bhakt) woh Babaji ki room me sam ko kisi ko aane nehi dete ,Babaji jis suit me rahete uske samne unka  personal char security guard hote hay ,jo kisi ko nazdik aane nehi dete .

hotel industry


Humare hotel ki room aur restaurant ki sale bahut bar gaye inke hone pe .Kaal babaji ka teaching khatum hoga aur woh fir aapna ashram Mumbai pe wapas jayenge.Mujhe Babaji bola -Tapas,kaal Subhe 6 baje mera flight hay ,4 baje me niklunga,tum aa paoge janakpuri se utne subha ?G.M sir bola --Babaji Tapas aaj night stay karega hotel me.Aap check out karne ke baad hi woh ghar jayga.

Me Hotel me rahe gaye,wake up call lagaye reception ne mere liye sade teen baje.me kitchen ko bola Babaji ki sabhi room me bed tea poucha do jaldi jaldi.Ek room boy ko leke Garum paani,Honey ki bottle,ek kela aur chey pcs almond leke me poucha Babaji suit me.

Security wale kuch bole nehi woh log bhi ready hogaye ,-chay pia ,me pucha un logo ko .sabhi ne sammati janay,ki chay piliya.ander gaye suit ke ,awaz na karke room boy ko ishara kiya saman table me rakhne ke liye,aur fir ishara kiya use jane ke liye .darwaza bandh karke room boy nikal gaye.Bath room ki darwaza khula tuk karke ,awaz hua.Gerua kapda pahen ke nikla --Babaji-lekin a kya unka sar pura mundit hay---

kab unhone mundan kiya ?Babaji bhi chaunk gaye mujhe dekh ke,fir dhire dhire mere paas aaye aur haath pakda mera,dono aankh aashnu me bhara hay,honth unka kanp raha tha ,fir sunai diye Tapas
me pichle10 saal se ganja hu,mera bal nakli hay.manager ji ko sirf malum hay iske bare me ...me tumhe request.....

service industry


Me mamuli sa job karne wala banda hu.Hotelier logo ko kitna kuch raaz ke bare me malum hota,woh thodi hi jate use viral karne .Me unko bola tha --'Babaji me service industry me hu ,service ke alaba dusre kisi me mera interest nehi hay .'Haath pakde mere Babaji-"jab bhi kuch jarurat ho to phone karna".Pichle 17 years Babaji ko la nehi paye unke hotel me ,mere M.D log.






Wednesday, August 21, 2019

janmashtami 2019

janmashtami 2019
https://www.kakolib.com/2019/08/janmashtami-2019.html
janmashtami 2019

                  जन्माष्टमी 2019


जब मूसलाधार बारिश हो रही थी। पृथ्वी को निगल लिया गया था, तब पृथ्वी पर शासन करने के लिए धरती को उत्पीड़न  से मुक्त करने के लिए भगवान विष्णु की धरती पर जन्म लिया। ) हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, सृष्टि के देवता श्री हरि विष्णु के आठवें अवतार,नट खाट नंदा लाला जनम लेते है धरती में। इसी छान  को श्री कृष्ण जयंती या जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है।

भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। यदि आप आठवीं तारीख को देखते हैं, तो यह 23 अगस्त को जन्माष्टमी होनी चाहिए, लेकिन अगर रोहिणी नक्षत्र में विश्वास करते हैं तो 24 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी होनी चाहिए। आपको बता दें कि कुछ लोगों के लिए, आठवीं तिथि का महत्व सर्वोपरि है, जबकि कुछ लोग रोहिणी नक्षत्र होने पर ही जन्माष्टमी का त्योहार मनाते हैं।इस साल जन्माष्टमी 2019 के शनि बार और रबिबार दो दिन मन सकते हो।

हम भारत वासी भगवन को कोभी बेटा  ,कभी पति ,कभी माता के रूप में सालो से पूजते आ  रहा है। चमत कर तो यही है के, भगवन को भी हमारे चाहत पूरा करने के लिए उसी रूप में आना पड़ा। इसी लिए ,मातारानी आपने माँ की  तरह है ,भगवन शिव पिता ये पति की तरह पूजा जाता ,और भगवन बिष्णू होते है हमारे घर घर के दुलाल। सिर्फ श्रद्धा और भक्ति से मिल जाते है ये महा शक्ति ये ,यही हमारे बिस्वास  है सालो से।

मंदिरो में रात से ही पूजों सुरु हो जाते है ,और सुभे पूजा होते है घर घर में। नटखट नन्द   लाला के लिए छप्पन भोग की आयोजन किया जाते है,मख्खन और मिश्री दिए जाते उस भोग के साथ। पूरी जग्गत नाथ को मैंने देखे है छप्पन भोग रोज़ देता था ,उनके सेवा में। भगवन के भोग देता जब पुजारी ,तब किसी एक थाली में से तीन ऊँगली के बराबर कोई उठा लेता भोग!कहते है भगवन खुद लेते है वह। मिटटी के छोटे हांडी ,एक के ऊपर एक बिठाते है,और अस्चार्जो ए है की ,ऊपर की हांडी सबसे पहले तैय्यर  हो जाते है,ए मेरा आँखों देखा है।

नंदा लाला की प्यारा है उनका झूला। हर कोई उनको एक झूला देते है ,कोई फूलो से बना हुआ ,तो कोई धातु से। श्री कृष्णा जनम तिथि हम मानते है प्यार और सेवा की रूप में। पालन हारी श्री हरि आये थे पृथिवी में प्यार सीखा ने के लिए ,दुस्ट कांगशा को बढ  करके शांति और प्रेम के प्रचार किये थे  उन्होंने।


में बहुत सामान्य जीब हु धरती के ,उनके बारे में क्या बताऊ सिर्फ चार लाइन में उधर कर रहा हु ,कवि रामधारी सिंह दिनकर ने भी कविता लिखी। दिनकर के महाकाव्य 'रश्मिरथी' के तीसरे उपदेश में इस पूरे संदर्भ को खूबसूरती से समझाया गया है। कृष्ण की चेतावनी ’कविता को लोग आज भी पसंद करते हैं। हो सके तो जरूर पूरा कबिता आप पड़ना. .......

यह देखो, आकाश मुझमें है,
देख, हवा मुझमें है,
मेरे विलय को सुना जा सकता है,
मेरे पास दुनिया के लिए एक लय है।
मुझमें अमरता बढ़ती है,
विनाश मुझ में निहित है।

हे जुग पुरुष प्रणाम आपको ,शातो कोटि प्रणाम  आपके चरण में। ये धरती झूम उठे आप के जनम तिथि पे ,पूरा देश  तथा ए धरती आपके आशीष से भर जाये। नंदा लाला आपके मीठी मीठी नूपुर की धुन से ये  धरती को मोहित करे ,मेरे माँ बैठा है मख्खन मिश्री सजा के तुम्हारे लिए ,आजाओ प्रभु ,आ जाओ। .........